बेमेतरा उप जेल में कैदियों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन के लिए सात दिवसीय राजयोग मेडिटेशन की शुरुआत

Must Read

रिपोर्टर रोशन यादव बेमेतरा छत्तीसगढ़

बेमेतरा :प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय बेमेतरा द्वारा जिला जेल में बंदियों के लिए सात दिवसीय राजयोग मेडिटेशन शिविर का आयोजन किया जा रहा है,शिविर में बी. के. शशि बहन ने प्रथम दिवस सभी को स्वयं की पहचान, आत्मा का ज्ञान, मन में विचारों के 4 प्रकार, बुद्धि के कार्य, संस्कारों का प्रभाव तथा राजयोग अभ्यास से फायदे की जानकारी दी गई।। उन्हाेंने कहा कि आप सभी श्रेष्ठ आत्माएं हो, जिनको श्रेष्ठ कर्म करने के लिए परमात्मा ने इस सृष्टि रूपी रंगमंच पर भेजा है। व्यक्ति की पहचान उसके कर्मों से होती है।

सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए संस्कारों को श्रेष्ठ बनाने की विधियां बताई गई जिसको अपना कर हम अपने जीवन में सहज ही संस्कार परिवर्तन कर सकते हैं क्योंकि संस्कार परिवर्तन से ही संसार परिवर्तन होगा कहा भी जाता है संकल्प से सृष्टि रची जाती है जैसा सोच वैसा जीवन तो हम पॉजिटिव सोचकर अर्थात मन पर अटेंशन देकर अपने श्रेष्ठ संस्कार बना सकते हैं क्योंकि जो कुछ भी मेरे साथ अच्छा या बुरा हो रहा है इसका दोषी कोई और नहीं वह मैं स्वयं हूं तो स्वयं को खुश एवं संतुष्ट रख श्रेष्ठ कर्म करने की जिम्मेवारी हम स्वयं लें कहा भी जाता है स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन आज यदि हर व्यक्ति अपने मन को सही दिशा प्रदान करें तो उसके बोल और कर्म निश्चित ही श्रेष्ठ होंगे इसलिए कहा जाता है जैसा बीज वैसा फल।
उक्त विचार ब्रह्माकुमारीज़ बेमेतरा द्वारा जिला जेल परिसर में बंदी भाईयों के जीवन उत्थान के लिए आयोजित कार्यक्रम में स्थानीय ब्रह्माकुमारिज़ की सेवाकेंद्र प्रभारी बी.के. शशि बहन ने व्यक्त किया। इस अवसर पर लगभग 100 बंदियों सहित जिला जेल स्टाफ सम्मिलित हुए, सभी ने मेडिटेशन कर बहुत-बहुत आत्मिक शांति एवं खुशी का अनुभव किया और आगे यह राजयोग शिविर प्रतिदिन सुबह 8:30 बजे से 10:00 बजे तक चलेगा जिसका लाभ सभी कैदी भाई ले सकेंगे एवं अपने जीवन को एक श्रेष्ठ दिशा की ओर मोड़ सकेंगे।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

Kedarnath: केदारनाथ में हेलीकॉप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग, बाल-बाल बचे यात्री

रुद्रप्रयाग: केदारनाथ धाम में पायलट की सूझबूझ से बड़ा हादसा होने से बच गया। केदारनाथ धाम के लिए उड़ान...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img